प्राचीन भारत, मध्यकालीन भारत

महात्मा बुद्ध की अहिंसा नहीं सम्राट अशोक का धम्म नीति भारतवर्ष और हिन्दुओं के पतन का कारन था

buddh
शेयर करें

नमो बुद्धाय

प्रसिद्ध पत्रकार और लेखक फ्रंकोइस गौटीयर ने अपने आर्टिकल हिंदू पॉवर के माध्यम से यह समझाने  की कोशिस की है कि भारतवर्ष/हिंदुओं के पतन का कारन हिंदुओं में घर कर गयी कायरता, निष्क्रियता, अतिसहिष्णुता और दब्बूपन जैसी बुराईयां है और यह बुराईयां हिंदुओं में कमोवेश बौद्ध धर्म की अहिंसा की गलत नीतियों और भारतवर्ष में उसके बृहत प्रभाव के कारन जन मानस में फ़ैल जाने के कारन आई. उदहारण के रूप में वे कहते हैं की हिंदू/बौद्ध आज भी बाजिब लड़ाई झगड़े से भी दूर घरों में दुबक जाते हैं, कश्मीर से चार लाख पंडित केवल हिंदू होने के कारन जबरन हिंसा के बदौलत निकाल दिए जाते हैं और वे एक भी बुलेट चलाये वगैर चुपचाप अपने ही देश में शरणार्थी बन जाते हैं. पाकिस्तान और बंगलादेश में लाखों हिंदू/बौद्ध बिना विरोध के खत्म हो जाते हैं और आज भी पश्चिम बंगाल में जहाँ जहाँ मुसलमान बढ़ रहे हैं उनके आतंक से हिंदू चुपचाप शहर छोड़कर चले जा रहे हैं.

वे कहते हैं कि आसाम में ऐसी ही परिस्थितियों में अगर किसी ने शस्त्र उठाया भी है तो वो क्रिश्चियन (बोडो) है. अतीत की घटनाओं का जिक्र करते हुए कहते हैं कि मुसलमानों ने जब अफगानिस्तान पर कब्जा किया तो लाखों हिंदुओं/बौद्धों का कत्ल किया और उसी कारन आज भी उस क्षेत्र को हिंदू कुश कहा जाता है. मोहम्मद गोरी ५ लाख हिंदुओं/बौद्धों को गुलाम बनाकर अपने देश ले गया. इतने तो उसके सैनिक भी नहीं थे. तैमूर ने दिल्ली में एक दिन में सौ हजार हिंदुओं/बौद्धों का एक साथ कत्ल किया. अगर वे एक साथ तैमूर की सेना पर धावा बोल देते तो तैमूर भागने पर विवश हो जाता.

क्या सचमुच बौद्ध धर्म हिन्दुओं और भारतवर्ष के पतन का कारण था

BUDDH
गौतम बुद्ध

इतिहास के विद्यार्थी होने के कारन मैं उनके दिए सभी आंकड़ों से सहमत हूँ और मानता हूँ कि बुद्धिष्ट न केवल अफगानिस्तान बल्कि अरब से लेकर पाकिस्तान, कश्मीर सहित भारत और बांग्लादेश में भी मुसलमानों के आसान शिकार बनकर मारे गये या जबरन मुस्लिम बना दिए गये और उनकी इस कायरतापूर्ण अहिंसक प्रवृत्तियों ने हिन्दुओं को भी काफी अधिक नुकसान पहुँचाया था. परन्तु मेरा उनसे थोडा सा मतभेद है. मेरे विचार से हिंदुओं और भारतवर्ष के पतन के जिम्मेदार हिंदुओं और बौद्धों की कायरता, निष्क्रियता, अतिसहिष्णुता और दब्बूपन महात्मा बुद्ध के धर्म के कारन नहीं बल्कि सम्राट अशोक के धम्म निति के कारन से हैं.

महात्मा बुद्ध ने अहिंसा को मानवीय संवेदना के रूप में व्यक्त किया था व्यक्ति या राज्य के निति के रूप में नहीं. अंगुलिमाल डाकू के साथ उनकी मुलाकात और संवाद इसके गवाह हैं कि अहिंसा का मतलब कायरता कतई नहीं है. इतना ही नहीं, मगध सम्राट बिम्बिसार, आजातशत्रु, कोशल नरेश प्रसेनजित आदि जिन्होंने बुद्धत्व को प्रश्रय दिया था उन्होंने कभी भी अहिंसा को राज्य के निति के रूप में स्थापित नहीं किया. आजादशत्रु तो बौद्ध धर्म का अनुयायी होते हुए भी कई लड़ाईयां लड़ी. उसने वज्जिसंघ, अंग, कोशल को बलपूर्वक जीत लिया परन्तु बुद्ध ने कभी इसका विरोध नहीं किया. फिर ४८३ ईस्वी पूर्व में उसने प्रथम बौद्ध संगीति का आयोजन भी किया था.

महात्मा बुद्ध खुद इच्छ्वाकू वंशी श्रीराम के अनुज लक्ष्मण के वंशज गौरवशाली लिच्छवियों की शाखा शाक्य क्षत्रिय कुल में उत्पन्न हुए थे. बौद्ध ग्रंथों में क्षत्रियों को सर्वश्रेष्ठ बताया गया है और उनका महिमामंडन किया गया है. क्षत्रियत्व वीरता, शूरता और युद्ध का पर्यायवाची था कायरता, निष्क्रियता और दब्बूपन का नहीं.

महात्मा गाँधी ने भी अनुभव किया था कि, “There is no doubt in my mind that in the majority of quarrels the Hindus come out second best. But my own experience confirms the opinion that the Mussalman is a bully, and the Hindu is a coward. Need the Hindu blame the Mussalman for his cowardice? Where there are cowards, there will always be bullies.”

उन्होंने आगे कहा की “My non-violence does not admit of running away from danger and leaving dear ones unprotected. Between violence and cowardly flight, I can only prefer violence to cowardice.” Hindu-Muslim Tension: Its Cause and Cure, Young India, 29/5/1924; reproduced in M.K. Gandhi: The Hindu-Muslim Unity, p.35-36.

सचमुच, यदि हम अपनी कायरता के कारन हिंसा का शिकार होते हैं तो मुझे रोने का कोई हक नहीं है. हमे दबंग, पराक्रमी, लड़ाकू और हिंसक बनने से किसने रोका है? यदि हमारी कायरता, नपुंसकता और निष्क्रियता के कारन हम पर अत्याचार होता है तो उसके लिए हम किसी ओर को दोषी नहीं ठहरा सकते. हमें खुद लड़ना और संघर्ष करना होगा.

सवाल है, आखिर एक समय लगभग पूरे एशिया और दक्षिण-पूर्व एशिया पर शासन करने वाले हम पराक्रमी, साहसी और युयुत्सु वीरपुत्र हिंदू आज कायर और दब्बू क्यों हो गए हैं? हम वीरपुत्र हिन्दू आज हर जगह से लुट पिटकर भागने अथवा मौत को गले लगाने को विवश क्यों हो गये हैं? इन सवालों का जबाब अशोक की धम्म नीति में है.

अहिंसा को कायरता बनानेवाला अशोक की धम्म नीति

Ashok
अशोक की धम्म नीति

सम्राट अशोक अपने हिंसक युद्धनीति और कलिंग युद्ध में हिंसा का विभत्स नंगा नाच करने के पश्चात युद्ध से विरक्त हो गया. सिर्फ अपने अहम की तुष्टि और साम्राज्यवाद के लिए अनावश्यक रूप से कलिंग से युद्ध और उसमे अपने क्रोध को तुष्ट करने के लिए भयानक नरसंहार के बाद जब अशोक की आँखें खुली तब उसका व्यवहार ऐसा था जैसे दूध के जले छाछ को भी फूंक फूंक कर पीता है. अपने कुकर्मों के पश्चत्ताप की ज्वाला में जलकर वह शासन का मूल मंत्र साम दाम दंड और भेद की नीति को भुलाकर राजनतिक सत्ता की शक्ति को कुंद कर दिया. अपने अनावश्यक हिंसा से व्यथित ह्रदय को तुष्ट करने के लिए उसने सनातन परम्परा अहिंसा परमोधर्मः धर्महिंसा तथैवच को भूल कर केवल अहिंसा परमोधर्मः जपना शुरू कर दिया और दुर्भाग्य से यही उसके सामरिक निति का मूल मंत्र बन गया. जिसका परिणाम यह हुआ की हथियारों में जंग लग गए और सैनिकों के बाजु शक्तिविहीन हो गए. परिणामतः तलवार के बदौलत अर्जित की गयी महान मौर्य साम्राज्य की सत्ता की जड़े कमजोर पड़ने लगी. उसके शासन के उत्तरार्ध में कई क्षत्रप बागी हो गये और स्वतंत्र शासक जैसा व्यवहार करने लगे. जबतक अशोक जीवित रहा विरोधों के बिच उसकी सत्ता किसी प्रकार कायम रही, परन्तु अशोक के मृत्यु के सिर्फ ४०-४५ वर्षों के भीतर ही महान मौर्या सम्राज्य और सत्ता ताश के पत्ते की तरह बिखड़ गया जिसके लिए उसके कमजोर उत्तराधिकारियों को नहीं अशोक को ही जिम्मेवार माना जाना चाहिए.

दरअसल अशोक ने पुरे जम्बुद्वीप में जिस धम्म विजय की स्थापना की थी वो ना तो सनातन धर्म पर आधारित था और ना ही बुद्ध धर्म पर. वह सिर्फ एक हिंसक शासक के पश्चताप से प्रेरित आत्म ग्लानी पर आधारित था. महात्मा बुद्ध शासन और सत्ता से जीवन पर्यन्त दूर रहे. उन्होंने सामाजिक व्यवस्था परिवर्तन, दुःख नाश और निर्वाण का मार्ग प्रशस्त किया था, व्यक्ति के लिए शांति और अहिंसा की नीति का प्रतिपादन किया था शासन के लिए अहिंसा और निशस्त्रीकरण की नीति का प्रतिपादन नहीं किया था. दूसरे शब्दों में कहें तो अहिंसा परमोधर्मः धर्महिंसा तथैव च की सनातन नीति से कतई छेड़छाड़ उन्होंने नहीं किया था.

परन्तु सम्राट अशोक की हिंसा की पराकाष्ठा के पश्चताप से व्युत्पन्न धम्म-राजनिति और उसका प्रचार-प्रसार ही भारतवर्ष और हिन्दुओं के पतन का कारण था जिसने भारत की एकता और अखंडता को पुनः खंड-खंड करके रख दिया. यही वह काल था जब सनातन हिंदू अपने मूल संस्कृति, सभ्यता, परम्परा, वीरता, शूरता और ज्ञान से विचलित होने लगे थे. हिंदुओं और हिन्दुस्तान की सुरक्षा की दृष्टि से कहें तो वे धर्म हिंसा तथैव च को भुलाकर केवल अहिंसा परमोधर्मः की आधी अधूरी वाक्य रटने लगे थे और यही से हिंदुओं का पतन प्रारम्भ हुआ था.

इतिहासकार पी एन ओक लिखते हैं, “यूरेशिया के महान वैदिक आर्य संस्कृति के लोग (हिन्दू, बौद्ध) “अहिंसा परमोधर्म:” की मूर्खतापूर्ण माला जपते हुए “हिंसा लूट परमोधर्म:” की संस्कृति में समाते जा रहे थे.”

अशोक की मूर्खतापूर्ण धम्म नीति का परिणाम

अफगानिस्तान, पाकिस्तान, भारत, बंगलादेश और दक्षिण-पूर्व एशिया तक विस्तृत मौर्य साम्राज्य जब अशोक के मूर्खतापूर्ण धम्म नीति के कारन २४०-२३२ ईस्वी पूर्व बिखरने लगी तो जनता में सत्ता और धम्म के विरुद्ध असंतोष उत्पन्न होना स्वाभाविक था. अशोक के मृत्यु पश्चात जब चंद वर्षों में ही महान मौर्य सम्राज्य टूट कर बिखड़ गयी तो जनता में सत्ता और धम्म के प्रति आक्रोश फूट पड़ा जिसकी प्रतिक्रिया स्वरूप कट्टर हिन्दुत्ववादी शुंग वंश का उदय हुआ. धम्म-राजनीती की विफलता से मौर्या सम्राज्य के पतन के पश्चात जो केन्द्रीय निर्वात उत्पन्न हुआ उसके कारण भारतीय क्षत्रप जो इरान (पार्थियन, पहलव), मध्य एशिया (सीथियन, शक), सुदूर उत्तर (युची, कुषाण) आदि में शासन कर रहे थे उन पर स्थानीय दबाब पड़ा और वे अपने केंद्र भारत की ओर भागने पर मजबूर हो गए जिनका मुकाबला सीमा पर मौर्य साम्राज्य से स्वतंत्र हो चुके क्षत्रपों से हुआ और वे आपस में लड़कर कमजोर हुए.

जिस भारतवर्ष को महान चाणक्य और चंद्रगुप्त ने अपने खून पसीने से एकसूत्र में पिरोकर एक शक्तिशाली सत्ता और शासन की नीव रखी थी वह अशोक की मूर्खतापूर्ण धम्म निति के कारन खंड खंड होकर फिर से बिखर गया. इसका राजनीतिक नुकसान तो हुआ ही इससे ज्यादा घातक परिणाम यह हुआ की बौद्ध बने हिन्दू तो कायर बने सो बने अन्य हिन्दू भी अपनी वीरता शूरता को भूलकर पहले मूर्ख अहिंसक बन विलासिता में डूब गये फिर कायर और नपुंसक बन ईसाईयत और इस्लामिक हिंसा की भेंट चढ़ गये.

अशोक की मूर्खतापूर्ण अहिंसक नीतियों ने न केवल राज्य की सुरक्षा व्यवस्था जर्जर कर दिया था बल्कि उसके लम्बे निष्क्रिय शासन ने जन मानस को निष्क्रिय बना दिया था. जन मानस की निष्क्रियता धीरे धीरे कायरता और दब्बूपन में बदल गयी जिसे लोग अहिंसा, इंसानियत आदि शब्दों का जामा पहनाने लगे. अशोक के शासन काल में क्षत्रियत्व का अवसान सा हो गया था. अशोक की अहिंसा की नीति के कारण शास्त्रोपजीवी अधिकांश क्षत्रिय  बेरोजगारी दूर करने केलिए वैश्य वर्ण (पेशा) अपनाकर अपना इतिहास और मूल कर्तव्य भूल गये. दूसरी ओर अशोक के शासन में मलाई खा रहे बुद्धिस्ट उसके मृत्यु के बाद से ही भारत में उपेक्षित होने लगे थे. शुंगों के शासन में वे पुरी तरह उपेक्षा के शिकार हो हिंदू विरोधी मानसिकता से ग्रस्त हो हिंदुओं से कट गए.

पराक्रमी पुष्यमित्र शुंग बिखड़े हुए मौर्य साम्राज्य को बहुत हद तक पुनः एकजुट करने में सफल हुआ परन्तु अशोक और उसके उत्तराधिकारियों ने जिस मुर्खता और कायरतापूर्ण धम्म नीति की घुट्टी हिन्दू और बौद्ध जनता को पिला दिया था वह बहुत गहरा असर कर गयी थी. हिन्दू तो उससे मुक्त होने की कोशिश करने लगे और सफल भी हुए परन्तु बुद्धिष्ट तो उससे मुक्त होना ही नहीं चाहते थे बल्कि उसी की पुनर्प्राप्ति केलिए सत्ता से संघर्ष करने लगे और अपने राजनितिक पुनर्वापसी केलिए वे राज्य के दुश्मनों और यहाँ तक की विदेशियों से भी सहयोग लेने और देने लगे. सम्भवतः यही कारन है की गौड़ नरेश शशांक ने बोधि वृक्ष को उखाडकर बौद्ध धर्म के प्रति अपने गुस्से का इजहार किया था.

भारत के बाहर धम्म नीति का प्रभाव

अशोक
इस्लामिक आक्रमण

भारत के बाहर भी कमोवेश यही हाल था. अशोक का धम्म जहाँ जहाँ पहुंचा पुरे यूरेशिया में शासन कर रहे पराक्रमी हिन्दुओं का शौर्य और तेज क्षीण कर दिया. संभवतः अशोक के मूर्खतापूर्ण धम्म नीति से कलुषित हिन्दू-बौद्ध समाज ही हिंसक ईसायत और इस्लाम के जन्म का कारण था. यही कारन है कि सुदूर देशों में मात खाकर सत्ता खोने के बाद सीमांत क्षेत्रों में हुए आक्रमण भी नहीं झेल पाए.सबसे पहले हुणों के आक्रमण के शिकार हुए जिसमे हिंदुओं ने तो कुछ हद तक प्रतिरोध किया परन्तु बुधिष्ट अपने दोषपूर्ण अहिंसा की नीतियों के कारन आसानी से निर्दयता पूर्वक कत्ल कर दिए गए. मुस्लिम काल में सिंध पर आक्रमण हुआ और कायर, निष्क्रिय और दब्बू बन चुके हिंदू/बौद्ध मुसलमानों द्वारा बुरी तरह रौंदे दिए गए. ब्राह्मणों और बुधिष्टों का देश अफगानिस्तान पर जब मुसलमानों ने आक्रमण किया तो ब्राह्मणों ने तो कुछ हद तक मुकाबला किया परन्तु समाज का अन्य अंग बुधिष्ट आदि वर्ग इसमें बिल्कुल नाकाम साबित हुए. अधिकांश तो मुसलमानों के हाथों निर्दयतापूर्वक कत्ल कर दिए गए और बाकी उनके समक्ष समर्पण कर मुसलमान बन गए और अपने ही देश और धर्म के विरुद्ध मुसलमानों के सहायक बन अफगानिस्तान से हिंदू और बौद्ध का नामो निशान मिटा दिए.

अर्बस्थान से लेकर इराक, समरकंद, अफगानिस्तान, स्वात, काफ़िरस्तान आदि में करीब ४०% बौद्ध या बौद्ध राज्य था जो इस्लामिक आक्रमण में आसानी से मारे गये या आत्मसमर्पण कर आक्रमणकारी भीड़ का हिस्सा बन गये. इसका परिणाम यह हुआ की ६०% हिन्दू पूरी ताकत से मुस्लिम आक्रमणकारियों का विरोध करने के बाबजूद संघर्ष में पिछड़ते चले गये जिसका परिणाम आज मुस्लिम देश अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बंगलादेश और भारत का कश्मीर है जहां से हिंदू और बुद्धिष्ट लगभग खत्म कर दिए गए हैं. इतिहास से साक्ष्य मिलता है कि शेष भारत में भी बुद्धिष्ट मुसलमानों के सबसे आसान शिकार बने. इसके बाद दलित हिंदू व अन्य को रखा जा सकता है. मुसलमानों द्वारा बौद्धों के अंतिम संरक्षक पाल वंश को खत्म करने के बाद वे या तो कत्ल कर दिए गए या मुसलमान बना लिए गए. यही कारन है अपने मूल देश भारत से भी बुद्धिष्ट लगभग समाप्त हो गये थे.

अब क्या करें

आज हिंदुओं के लिए यह आवश्यक हो गया है कि वे अपनी अस्तित्व और अपने जन्मभूमि की रक्षा के लिए अपनी कायरता, निष्क्रियता और दब्बूपन से मुक्त होने का प्रयास करे वरना जिस तरह भारतवर्ष अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बंगलादेश, कश्मीर बनने को बाध्य हुआ है वो प्रक्रिया आगे भी जारी रह सकता है और हिंदुओं को एकबार फिर दर्दनाक हिंसा, लूट और अपनों का बलात्कार का सामना करना पड़ सकता है. युद्ध नीति कहती है जब कोई एक पक्ष कमजोर होता है तभी युद्ध की सम्भावना बढ़ती है. शांति चाहिए तो युद्ध की तैयारी आवश्यक है. हिंदुओं को यदि भयानक हिंसा से बचे रहना है तो कायरता और निष्क्रियता को त्यागकर अस्त्र शस्त्र से सज्जित तथा साहसी और पराक्रमी बनने के लिए जी जान से मेहनत करना होगा. हर घर में मोबाईल और टीवी के साथ साथ हर घर में अस्त्र शस्त्र भी रखना होगा और उसका अभ्यास करना होगा.

Tagged , , , , ,

146 thoughts on “महात्मा बुद्ध की अहिंसा नहीं सम्राट अशोक का धम्म नीति भारतवर्ष और हिन्दुओं के पतन का कारन था

  1. Hi! This is my first visit to your blog!
    We are a collection of volunteers and starting a new project in a community in the
    same niche. Your blog provided us useful information to work on. You have done a marvellous job!

  2. Spot on with this write-up, I actually think this web site needs
    a great deal more attention. I’ll probably be back again to read
    through more, thanks for the info!

  3. Whats up this is somewhat of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors
    or if you have to manually code with HTML. I’m starting
    a blog soon but have no coding know-how so I wanted to get advice from
    someone with experience. Any help would be enormously appreciated!

  4. I will immediately grasp your rss feed as I can not to find your e-mail subscription hyperlink
    or newsletter service. Do you’ve any? Please permit me understand in order that I may just
    subscribe. Thanks.

  5. Hiya! I know this is kinda off topic but I’d figured I’d ask.
    Would you be interested in trading links or maybe guest writing a blog
    post or vice-versa? My site addresses a lot of the same subjects
    as yours and I feel we could greatly benefit from each other.
    If you happen to be interested feel free to send me an email.

    I look forward to hearing from you! Fantastic blog by the way!

  6. Hi there, just became alert to your blog through Google, and found that it is really informative.
    I am gonna watch out for brussels. I will appreciate if you continue this in future.

    A lot of people will be benefited from your writing. Cheers!

  7. I will immediately snatch your rss feed as I can’t
    to find your e-mail subscription hyperlink or newsletter service.
    Do you have any? Kindly allow me know in order that I may just subscribe.

    Thanks.

  8. Hi there! This post couldn’t be written any better!
    Reading this post reminds me of my good old room mate!
    He always kept talking about this. I will forward this article to him.
    Fairly certain he will have a good read. Thank
    you for sharing!

  9. We’re a group of volunteers and starting a new
    scheme in our community. Your site offered us with valuable information to work on. You have done an impressive job and our whole community will be grateful to you.

  10. Thanks for ones marvelous posting! I certainly enjoyed reading it, you can be a great
    author. I will be sure to bookmark your blog and
    may come back sometime soon. I want to encourage you to continue your great posts,
    have a nice afternoon!

  11. This design is steller! You certainly know how to keep a reader amused.

    Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!)
    Wonderful job. I really loved what you had to say, and more than that, how you presented it.

    Too cool!

  12. When someone writes an post he/she keeps the idea of a user in his/her brain that how a user
    can know it. Thus that’s why this piece of writing is amazing.

    Thanks!

  13. Thanks on your marvelous posting! I truly enjoyed reading it, you
    are a great author. I will always bookmark your blog and may come back very soon. I want
    to encourage that you continue your great writing, have a nice
    morning!

  14. After I initially left a comment I appear to have clicked on the -Notify me when new comments are
    added- checkbox and now each time a comment is added I get 4 emails with the exact same
    comment. Is there a means you can remove me from that service?

    Thanks!

  15. Heya! I just wanted to ask if you ever have any problems with hackers?
    My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing many months
    of hard work due to no data backup. Do you have any solutions to protect against hackers?

  16. After going over a number of the blog posts on your blog,
    I truly like your way of blogging. I book-marked it to
    my bookmark webpage list and will be checking
    back soon. Take a look at my website too and let me know
    how you feel.

  17. Excellent beat ! I wish to apprentice while you amend your web site, how can i subscribe
    for a blog site? The account aided me a acceptable deal.
    I had been tiny bit acquainted of this your broadcast
    offered bright clear idea

  18. What’s Taking place i am new to this, I stumbled upon this I have found It positively helpful and it has aided me out loads.
    I am hoping to contribute & help other customers like
    its helped me. Good job.

  19. Appreciating the persistence you put into your
    website and detailed information you present. It’s nice to come across a blog
    every once in a while that isn’t the same unwanted rehashed
    information. Wonderful read! I’ve saved your site and I’m including your RSS feeds to my Google account.

  20. When I originally commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time
    a comment is added I get four emails with the same comment.
    Is there any way you can remove me from that service? Thanks a lot!

  21. Its like you read my mind! You appear to understand a lot
    approximately this, such as you wrote the e-book in it or something.
    I think that you can do with some p.c. to pressure the message house a
    little bit, however other than that, this is great blog.
    An excellent read. I’ll certainly be back.

  22. When I originally commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox
    and now each time a comment is added I get four e-mails with
    the same comment. Is there any way you can remove me from that
    service? Bless you!

  23. You truly make that seem really easy with your display but I find such a matter to get actually a thing that I think Allow me to never figure out.
    It seems too complex and intensely broad for your case.
    I am looking forward to your forthcoming post,
    We are in a position to try to get comfortable with it!

  24. Having read this I thought it was very informative.
    I appreciate you spending some time and energy to put this informative article together.
    I once again find myself personally spending a significant amount of time both reading and commenting.
    But so what, it was still worth it!

  25. Hello my friend! I want to say that this post is awesome, nice written and include approximately all significant infos.
    I’d like to peer more posts like this .

  26. We are a group of volunteers and starting
    a new scheme in our community. Your website provided us with valuable
    information to work on. You have done a formidable job and our whole community will
    be thankful to you.

  27. hey there and thank you for your information – I have certainly picked up anything
    new from right here. I did however expertise some technical issues
    using this website, as I experienced to reload the website lots
    of times previous to I could get it to load properly.
    I had been wondering if your hosting is OK? Not that I am complaining, but sluggish
    loading instances times will very frequently affect your placement in google
    and could damage your quality score if ads and marketing with Adwords.
    Anyway I am adding this RSS to my email and can look out for a
    lot more of your respective intriguing content. Make sure you
    update this again very soon.

  28. I don’t even know the way I finished up right here, however I thought this put up used to
    be good. I don’t recognise who you might be however certainly you are going to a
    famous blogger should you are not already. Cheers!

  29. Are you gonna be a togel player? Look at the news in the site in the first place to get the most
    up to date information. You will see correct estimations and how to
    consider up.

  30. extremely good evaluation. I hope you might continue to function so that you can set insight for the readers within this website.
    Moreover visit my own, personal site to get all the latest articles
    about togel.

  31. Hello! I could have sworn I’ve been to this site before but after going through
    many of the posts I realized it’s new to me. Nonetheless, I’m
    certainly pleased I stumbled upon it and I’ll be bookmarking it and checking back regularly!

  32. Hi there are using WordPress for your blog platform?
    I’m new to the blog world but I’m trying to get
    started and set up my own. Do you need any html coding knowledge to make your own blog?
    Any help would be greatly appreciated!

  33. Thanks for the marvelous posting! I certainly enjoyed reading it, you
    may be a great author.I will ensure that I bookmark your blog and may come back in the
    future. I want to encourage you to definitely continue your great work,
    have a nice day!

  34. really good evaluation. I hope you could continue to
    do the job so that you can set insight on the readers in this website.
    Too visit my own site to get all the latest content articles about bola togel.

  35. Yesterday, while I was at work, my cousin stole my iphone
    and tested to see if it can survive a 30 foot drop, just so she can be
    a youtube sensation. My iPad is now destroyed and
    she has 83 views. I know this is entirely off topic but I had to share it with someone!

  36. It is perfect time to make some plans for the long run and it’s time to be happy.
    I have read this put up and if I could I desire to suggest
    you some fascinating things or advice. Perhaps you could write subsequent
    articles referring to this article. I desire to read even more things approximately it!

  37. You really make it seem so easy with your presentation but I find this topic to
    be actually something which I think I would never understand.
    It seems too complicated and extremely broad for me. I am looking forward for your
    next post, I will try to get the hang of it!

  38. I was wondering if you ever considered changing the layout of your site?
    Its very well written; I love what youve got to say. But maybe you could a little more in the way
    of content so people could connect with it better.
    Youve got an awful lot of text for only having one
    or two images. Maybe you could space it out better?

  39. Heya are using WordPress for your site platform? I’m new to the blog world but
    I’m trying to get started and set up my own. Do you need any html coding
    expertise to make your own blog? Any help would be really appreciated!

  40. Looking at a togel online player? Begin to see the news in the site to
    start with to get the most popular information. An essential of correct estimations and how
    to have up.

  41. I loved as much as you will receive carried out right here.

    The sketch is attractive, your authored material stylish.
    nonetheless, you command get got an edginess over that you wish be delivering the following.
    unwell unquestionably come more formerly again since exactly the same nearly very often inside case you shield this hike.

  42. I take pleasure in, result in I discovered exactly what I used to be taking a
    look for. You have ended my 4 day lengthy hunt! God Bless you man. Have a great day.

    Bye

  43. I was recommended this web site by my cousin. I’m not positive whether this put up
    is written by means of him as nobody else understand such
    exact about my difficulty. You’re incredible! Thanks!

  44. Excellent article. Keep posting such kind of info on your
    site. Im really impressed by your blog.
    Hello there, You’ve performed an incredible job. I’ll definitely digg it and in my opinion recommend to my friends.
    I am confident they’ll be benefited from this web site.

  45. Good post. I learn something new and challenging on sites I stumbleupon every
    day. It will always be exciting to read through content from
    other authors and practice a little something from other websites.

  46. Wow! This blog looks just like my old one! It’s on a totally
    different subject but it has pretty much the same page layout and design. Great choice of colors!

  47. surprisingly good analysis. I hope you might continue to function so that you can set insight associated
    with the readers with this website. As well visit my own, personal site to get all the latest content articles about togel online.

  48. Thanks for the good writeup. It in fact was a amusement account it.

    Look complex to far brought agreeable from you! By the way, how could we keep up a correspondence?

  49. Hi there! This is kind of off topic but I need some guidance from an established blog.
    Is it hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick.
    I’m thinking about creating my own but I’m not sure where
    to begin. Do you have any points or suggestions?

    Thanks

  50. Hello! I’m at work surfing around your blog from my new iphone 4!
    Just wanted to say I love reading through your blog and look
    forward to all your posts! Keep up the superb work!

  51. Amazing! This blog looks exactly like my
    old one! It’s on a completely different topic but it has
    pretty much the same layout and design. Wonderful choice
    of colors!

  52. Thanks , I’ve just been looking for info about this subject for a while and yours is the greatest I’ve came upon till now.
    However, what about the bottom line? Are you certain in regards to the supply?

  53. I do trust all of the concepts you’ve offered on your post.
    They’re very convincing and can certainly work. Nonetheless, the posts are very
    quick for beginners. Could you please lengthen them a little from next time?
    Thanks for the post.

  54. Does your site have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d
    like to send you an email. I’ve got some creative ideas for your blog you might be interested in hearing.
    Either way, great blog and I look forward to seeing it expand over
    time.

  55. Hi there this is kinda of off topic but I was wondering if blogs use
    WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML.
    I’m starting a blog soon but have no coding experience so I wanted to get
    advice from someone with experience. Any help would be greatly appreciated!

  56. I am curious to find out what blog platform you’re using?
    I’m experiencing some small security issues with my latest site
    and I’d like to find something more secure. Do you have any recommendations?

  57. I loved as much as you will receive carried out right here.
    The sketch is tasteful, your authored material stylish.
    nonetheless, you command get bought an impatience over that you wish be delivering the following.
    unwell unquestionably come more formerly again since exactly
    the same nearly very often inside case you shield this increase.

  58. Hi! I know this is somewhat off topic but I was wondering which blog platform are you using for
    this site? I’m getting fed up of WordPress because I’ve had problems with hackers
    and I’m looking at alternatives for another platform.
    I would be great if you could point me in the direction of a good platform.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *