गौरवशाली भारत

हमारा उद्देश्य

Bharat
शेयर करें

वंदेमातरम्

भारत के सत्य इतिहास का अनुसन्धान और प्रकाशन केलिए इस वेबसाइट का निर्माण किया गया है. इसका मुख्य उद्देश्य भारतीयों को भारतवर्ष के सत्य और गौरवशाली इतिहास की जानकारी उपलब्ध कराना है जिसे ब्रिटिश सरकार ने साम्राज्यवादी हितों केलिए जानबुझकर विकृत किया और मार्क्सवादी इतिहासकार जानबुझकर जो सच नहीं बताते हैं. अतः हमारा उद्देश्य अंग्रेजों द्वारा विकृत तथा वामपंथी इतिहासकारों के फर्जी और मनगढ़ंत इतिहास को तथ्यों और सबूतों के साथ जनता के सामने एक्सपोज कर सत्य इतिहास को सामने लाना है. हमारा उद्देश्य आधुनिक एतिहासिक, नृजातीय और वैज्ञानिक शोधों तथा नए एतिहासिक तथ्यों और  प्रमाणों के आधार पर भारत के सत्य इतिहास का अनुसन्धान करना और इसे भारत के जन जन तक पहुँचाना है.

हम इस वेबसाइट पर निम्नलिखित टैब के अंतर्गत भारत का सत्य और शोधपरक इतिहास रख रहे हैं:

१. पौराणिक काल (Pre-historic World) – श्री कृष्ण के महापरिनिर्वाण तिथि १८ फरवरी ३१०२ ईस्वी पूर्व से पहले के महाभारतकालीन, रामायणकालीन और उसके पहले के पौराणिक विश्व के इतिहास. इसमें पुराणों में उपलब्ध सृष्टि निर्माण का वैज्ञानिक विशलेषण के साथ साथ उनमें विभिन्न कथाओं के रूप में वर्णित प्राकृतिक घटनाओं और वैश्विक एतिहासिक घटनाओं का तथ्यपरक विश्लेष्ण किया जायेगा. उदाहरण केलिए पुराणों में वर्णित “असुर लोक कहाँ हैं” इस बात का एतिहासिक शोध-पत्र दिया गया है जो एतिहासिक, नृजातीय और वैज्ञानिक सबूतों पर आधारित है.

२. प्राचीन भारत (Ancient India) – श्री कृष्ण के महापरिनिर्वाण तिथि १८ फरवरी ३१०२ ईस्वी पूर्व से भारत पर ७१२ ईस्वी में मोहम्मद कासिम के भारत पर आक्रमण से पहले तक का इतिहास. प्राचीन भारत में बताया जायेगा की ब्रिटिश साम्राज्यवाद का षडयंत्र आर्यों (हिन्दुओं) के आक्रमण का सिद्धांत/ माईग्रेशन का सिद्धांत १९६०-७० के दशक में ही फर्जी, मनगढ़ंत और भारतविरोधी षड्यंत्र कैसे साबित हुआ और इनके फर्जी साबित होने के बाबजूद सेकुलर सरकार और वामपंथी शिक्षा पद्धति में इसे क्यों नहीं बदला गया? इसी प्रकार आर्य-द्रविड़ का सिद्धांत अंग्रेजों ने अपनी किस रणनीति के तहत आविष्कार किया था और ये अब कैसे फर्जी साबित हो गया है. इसी तरह गौरवशाली भारत के इतिहास को कलंकित क्यों किया गया और असली भारत का इतिहास क्या था? विभिन्न देशी और विदेशी एतिहासिक ग्रन्थों से साबित करेंगे की आर्य विदेशों से भारत नहीं आये बल्कि भारत के मूलनिवासी आर्य (हिन्दू) भारत से विश्व के विभिन्न देशों में जाकर बसे थे. भारत तथा विश्व के दर्जनों एतिहासिक ग्रन्थों के आधार पर बतायेंगे की ईसायत और इस्लाम के पहले पुरे विश्व में वैदिक संस्कृति थी यानि हिन्दू संस्कृति थी आदि.

३. मध्यकालीन भारत (Medieval India) – मोहम्मद कासिम के नेतृत्व में भारत पर बर्बर इस्लामिक आक्रमण से लेकर १७०७ ईस्वी में इस्लामिक आतंक का पर्याय औरंगजेब की मृत्यु तक. मध्यकालीन इतिहास में बतायेंगे हिन्दुओं, बौद्धों, जैनों और सिक्खों का कत्लेआम; स्त्रियों का बलात्कार कर दो दो रुपये में भेड़ बकरियों की तरह बेचने वाले; हिन्दुओं, बौद्धों, जैनों के मन्दिरों और मूर्तियों को तोड़ने और लुटने वाले बर्बर इस्लामिक आक्रमणकारियों को सेकुलर सरकार के ५ विशेष समुदाय के शिक्षा मंत्रियों और वामपंथी इतिहासकारों ने मिलकर कैसे महान बनाया. उनका सत्य और शोधपरक इतिहास क्या है?

४. आधुनिक भारत (Modern India) – हिन्दुओं का उत्थान, मुग़ल सल्तनत का पतन, अंग्रेजों का आक्रमण, गुलाम भारत में भारत और भारतियों की बर्बादी से लेकर भारत की आजादी तक. आधुनिक भारत में बतायेंगे कैसे स्वतंत्रता सग्राम के इतिहास को वामपंथी इतिहासकारों ने विकृत किया. चरखे ने आजादी दिलाई इस “सफेद झूठ” का पर्दाफाश कर भारत को आजादी दिलाने वाले सच्चे लोगों और कारकों को बतायेंगे. अनुसूचित जातियों के वास्तविक इतिहास को सबूत के साथ रखने के साथ इस सत्य को भी बताया जायेगा कि अनुसूचित जातियों के शोषक, उत्पीडक और दरिद्र बनाने वाले अत्याचारी, लूटेरा मुस्लिम-अंग्रेज शासकों का कुशासन था न कि कोई छूआछूत.

५. गौरवशाली भारत (Proud India)- गौरवशाली भारत टैब के अंतर्गत भारत के गौरवशाली अतीत पर विश्व के महान इतिहासकारों और विद्वानों के विचार छोटे छोटे संदेश के रूप में प्रस्तुत किये जायेंगे जो सम्मिलित रूप में यह साबित कर देगा की ईसाईयत और इस्लाम के पूर्व पुरे एशिया, यूरोप और अफ्रीका में वैदिक भारतीय संस्कृति के लोग ही रहते थे.

६. एतिहासिक कहानियां (Historical Stories)- एतिहासिक कहानियों में वीर बालक और बालिकाओं की एतिहासिक कहानियों के साथ साथ इतिहास के वीर योद्धाओं और वीरांगनाओं की गौरवगाथाएं लिखी जाएगी. इसी प्रकार भारत के गौरवशाली इतिहास को कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया जायेगा ताकि इतिहास मनोरंजक विषय बने और लोग अपने इतिहास से परिचित हों. यह और पौराणिक काल का खंड बच्चों और बच्चियों के लिए अधिकतम उपयोगी बनाने की कोशिश होगी ताकि वे कहानियों के रूप में भारत के इतिहास को समझ सकें. अतः आपलोगों से अनुरोध है की इस वेबसाइट से अपने बच्चों को अवश्य परिचित कराएँ तथा अपनी जानकारी बढ़ाने के साथ साथ उनकी जानकारी भी दुरुस्त करें.

7. नवीनतम शोध (Latest Research)- नवीनतम शोध के अंतर्गत नवीनतम एतिहासिक शोधों, शोधपत्रों, समाचारों आदि को रखा जायेगा और उनका विश्लेष्ण किया जायेगा.

हमारे उद्देश्य को और बेहतर ढंग से समझने केलिए हमारा घोषणापत्र अवश्य पढ़ें जो “परिचय” टैब के अंतर्गत “घोषणापत्र” में दिया गया है.

इसके अतिरिक्त इतिहास के विभिन्न शोधार्थियों और सत्य इतिहास के संशोधक इतिहासकारों को इस वेबसाइट के माध्यम से जोड़ा गया है. अतः आप सब से निवेदन है कि आप अपने परिवार, बच्चों और मित्रों को भी यह संदेश अग्रसारित कर उन्हें भी इस वेबसाइट को सबस्क्राइब करने केलिए प्रेरित करें.

अगर कोई बन्धु, मित्र, सम्मानित अग्रज और अनुज एतिहासिक लेख और/या एतिहासिक/पौराणिक कहानियां लिखते हैं तो वे वेबसाईट या फेसबुक पेज में दिए गए इमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं. तथ्यपरक और मौलिक एतिहासिक कहानियों को प्रकाशित किया जायेगा. यदि कोई सम्मानित जन इतिहास के शोधार्थी हैं और वे हमारे टीम से जुड़ना चाहते हैं तो वे इमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं.

भवदीय

truehistoryofindia.in टीम के सदस्यगण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *